पंचायत दर्पण – Panchayat darpan ग्रामीण विकास विभाग

पंचायत दर्पण ( panchayat darpan ) – ग्रामीण विकास विभाग

 

पंचायत

अगर पंचायत शब्द की बात करे तो यह दो भागों से मिलकर बना हुआ है। एक तो पंच, जिसका हिंदी में मतलब पांच लोगों का समूह और यत शब्द का मतलब सभा ( पंचो की सभा) होता है। लेकिन आज के 20वी सदी में इस शब्द का रूपांतरण कर दिया गया। काम करने का तरीका अलग है। और इसमे किये बदलाव किए गए है।

पंचायत दर्पण ( panchayat darpan ) – ग्रामीण विकास विभाग क्या है।

यह भारत सरकार की एक कार्य प्रणाली है, भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद भी कई परेशानियों का सामना करना पड़ा था। भारत के प्रत्येक राज्य में अलग अलग यह व्यवस्था लागू है। इसलिए इसके हर राज्य में अलग कार्य है। इसके लिए सरकार ने हर गांव में एक पंचायत का निर्माण करवाया था।,

जिसके द्वारा गांव की छोटी समस्या का समाधान अपने गाँव मे ही हो जाये। लेकिन जब जनसंख्या में वृद्धि होने लगी, तो कार्य को करने के लिए एक बेहतर सदस्यों की जरूरत पड़ी। और हर राज्य की अलग अलग कानून और न्याय व्यवस्था को देखने के लिए इस प्रणाली का गठन किया।

panchayat-darpan

ग्रामीण विकास विभाग कार्य:

इसके द्वारा आपको कृषि के क्षेत्र में नई तकनीकी क्षेत्र में एवं विकास के क्षेत्र में इसकी भूमिका रहती है। अगर आपको किसी भी प्रकार की समस्या है, तो आप इसके माध्यम से हल कर सकते है। लेकिन अब यह सारा कुछ ऑनलाइन हो गया है। जहाँ पर कहि से बैठकर अपने गाँव के नई जानकारी जान सकते है।

काम कैसे होता है।

अगर किसी भी व्यक्ति को किसी भी जानकारी लेना हो तो, वह अपने पास के ई मित्र के यहाँ से जानकारी ले सकता है। प्रत्येक राज्य की अलग अलग पंचायती व्यवस्था है। काम करने का तरीका भी ऑनलाइन माध्यम से आप जो उन्हें बताते है, वो आपका एक फॉर्म भर देते है। फॉर्म अप्लाई होने के बाद सम्बंदित अधिकारी को जानकारी मिलती है। और आपके दस्तावेजो के हिसाब से वह अपनी रिपोर्ट लगाता है। आपके फॉर्म में क्या क्या हो रहा है। इसके जानकारी वेबसाइट पर बता दी जाती है।

गावो की मूलभूत समस्या:

गावो की मुख्यता जरूरत चीजे जैसे की सड़क, नालियों का सही से निस्तारण, नलजल की व्यवस्था, और कीचड़ आदि की समस्याएं होती है। अगर यह सारी सुविधा होने मिल जाए तो उन्हें किसी प्रकार की चिंता नहीं होती है लेकिन आजकल के इस भ्रष्टाचार के जमाने में ऐसा होना बहुत ही मुश्किल होता है

अगर इसी गांव में सड़के वगैरा नहीं है तो बनवाने के लिए काफी ज्यादा चक्कर लगाने पड़ते हैं। तब कहीं जाकर इस समस्या से निदान मिलता है। अगर सारे अफसर सही ढंग से काम करे तो जनता को कोई दिक्कत या परेशानी से नही जूझना पड़ेगा।

ग्रामीण पंचायत विकास योजना:

ग्रामीण विकास विभाग ने जनसंख्या के बढ़ जाने पर और भी कई प्रकार की योजनाएं चलाई हैं। उनमें से ग्रामीण पंचायत विकास योजना है। जिसके द्वारा गांव की सड़कें नल और आवास देने के लिए और गांव के बच्चो को बेहतरीन शिक्षा देने के लिए इस योजना को लागू किया गया है। इस योजन को सही से लागू करने के लिए इसे कई भागो में बाटा है । अगर किसी भी योजन में कार्य करना है

तो सबसे पहले यह जिलेवार यानी की जिला मुख्यालय में आती है। फिर फिर स्थानीय निकाय वार को इसके बारे में बताया जाता है, और अंतिम में यह ग्राम पंचायत के पास आती है। लेकिन रिपोर्ट बताने का (काम कितना हुआ इस बात की जानकारी) उल्टी चलती है,यानी की सारी घटना पंचायत से कम्पलीट होने पर जिले मे जाती है।

ग्रामीण विकास विभाग से लाभ:

इस विभाग से सरकार की प्रत्येक राज्य की नई नई योजनाओं के बारे में पता चलता है। जिससे हम इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

हम उमीद करते है आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा होगा और आपको पंचायत दर्पण ( panchayat darpan ) के बारे में बोहत कुछ जानने मिला होगा

Updated: February 24, 2020 — 4:15 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *